LOADING

Type to search

Inspiring+इंडिया

हताशा में हिंदुस्तान का हौंसला बढ़ाती कर्मवीर अफसर के जीवन संघर्ष की कहानी

Share

जिंदगी एक कहानी है। हर कहानियों में रंग, कहीं फीके तो कहीं गाढ़े रंग, उदासी और उत्साह के रंग। ये हम सबकी जिंदगी में होता है। हम चलते हैं, गिरते हैं, उठते हैं और जिंदगी आगे बढ़ती जाती है। बस फर्क इतना होता है कि कुछ लोग जिंदगी में आई मुश्किलों से टूट जाते हैं तो कुछ मुसीबतों की आंखों में आंखे डाल भिड़ जाते हैं। विपरीत हालातों में भी अपने हौसले, अदम्य साहस और दृढ़ इच्छाशक्ति के जरिए वो जीत जाते हैं और उदाहरण बन जाते हैं हम सभी के लिए। हमारे इर्द-गिर्द ही ऐसे लोग हैं, जिन पर मुसीबतों का पहाड़ टूटा, मदद के सारे दरवाजे बंद हो गए लेकिन वो रुके नहीं बल्कि आगे बढ़ते गए। असल मायने में दुनिया को ऐसे लोगों ने ही गढ़ा है और ऐसे लोग ही जिंदगी को ज्यादा मायनेदार बना रहे हैं। हमारी आज की कहानी भी एक ऐसी ही शख्सियत की है जो यकीनन बुरे वक्त में हर हिंदुस्तानी को आगे बढ़ने का हौंसला देती है।

बचपन में चूड़ियां बेचने वाला रमू जो बन गया देश का काबिल कलेक्टर

सपनों की कोई सीमा नहीं होती, तमाम तोहमतों के बावजूद हसरत कभी कम नहीं होती। अड़चनों की आंधियां और तकलीफों के तूफान को भी हुनर और हौसलों की बयार के आगे अपना रुख बदलना पड़ता है। हमारे आज के नायक के जीवन संघर्ष की कहानी इन लाइनों को शब्द दर शब्द सच साबित करती है। इस कहानी को सामने लाने का मकसद भी सिर्फ यही है कि आज देश के युवा सीख सकें कि जिंदगी के पथरीले सफर में सपनों का पीछा कैसे किया जाता है।

 जी हां ये कहानी है अपने पहाड़ से हौंसले के बूते जिंदगी की हारी बाजी को जीतने वाले आईएएस रमेश और उनके अदम्य साहस की। जो साबित करती है कि कामयाबी के लिए अच्छे हालात नहीं, हौंसले जरूरी होते हैं। विकलांग होने के बावजूद 10 साल की उम्र तक अपनी मां के साथ चिलचिलाती धूप और कड़कड़ाती ठंड में गांव-गांव घूमकर चूड़ियां बेचीं, बचपन में ना रहने के लिए घर था, न पढ़ने को किताब, जवानी से पहले ही पिता का साया भी सिर से उठ गया, मुफलिसी के तमाम रंग देखे लेकिन कुछ भी इन्हें अपने ख्वाबों तक पहुंचने से नहीं रोक सका। जिंदगी ने हर मोड़ पर कठिन परीक्षा ली लेकिन रमेश कभी मंजिल से भटके नहीं, हिमालय से अडिग रहे अपने लक्ष्य पर।

‘जो लोग विपरीत हालातों में नहीं टूटते, वो रिकॉर्ड तोड़ते हैं’

झारखंड कैडर के आईएएस अधिकारी और कोडरमा कलेक्टर रमेश घोलप की जिंदगी कई संघर्षो को समेटे है। महाराष्ट्र के सोलापुर जिले के वारसी तहसील के महागांव में जन्में रमेश घोलप के सपने भी कुछ ऐसे थे कि नन्ही उम्र में ही नींद ने उनका साथ छोड़ दिया था। बचपन में जब बाकी घरों के बच्चे स्कूल जाने के लिए तैयार हुआ करते थे, तब रोटी के संघर्ष में रमेश और उनकी मां गर्मी-बरसात और जाड़े से बेपरवाह होकर नंगे पांव चूड़ि‍यां बेचने निकल जाया करते थे। रमेशजी के पिता गोरख घोलप साइकिल की दुकान चलाते थे और शराब पीने के आदी थे। चार लोगों का परिवार था, लेकिन सारी कमाई शराब की भेंट चढ़ जाती थी। घर का गुजर बसर भी बड़ी मुश्किल से चल रहा था। इस बीच एक और मुसीबत ने दस्तक दी और डेढ़ साल के रामू के बाएं पैर में पोलियो हो गया लेकिन फिर भी उसने अपने भाई के साथ मिलकर मां के काम में हाथ बंटाने का काम जारी रखा।

दुनिया में ज्यादातर लोग विपरीत परिस्थितियों के सामने टूट जाते हैं, लेकिन रमू/रमेश तो चुनौतियों से लड़ने के लिए ही पैदा हुए थे। छोटी उम्र में घर की बड़ी जिम्मेदारी ने उन्हें समय से काफी पहले ही परिपक्व बना दिया था।


रमेशजी  का बचपन विकलांगता और पारिवारिक जिम्मेदारियों के बीच दबकर रह गया था बावजूद इसके उन्होंने कभी हार नहीं मानी और बुरे हालातों का डटकर सामना किया। गांव के प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने के बाद रमू को बड़े स्कूल में पढ़ने के लिए अपने चाचा के गांव बरसी जाना पड़ा। इस बीच साल 2005 में 12वीं की पढ़ाई के दौरान उनके पिता का निधन हो गया। लेकिन बदनसीबी देखिए उस वक्त अपने पिता की अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए बरसी से महागांव तक जाने के लिए बस का किराया 2 रुपए तक रमू के पास नहीं था। हालांकि पड़ोसियों की मदद से वो किसी तरह पिता के अंतिम संस्कार में शामिल हुए। पिता की मौत का उन्हें बड़ा सदमा लगा जबकि चार दिन बाद ही उन्हें मुख्य परीक्षा में शामिल होना था। मां ने पिताजी की मौत के तीसरे दिन ही बेटे को परीक्षा देने भेज दिया, यह कहते हुए कि घर के हालात बदलना है तो तुम्हें पढ़ना होगा। मां की हौंसला अफजाई के बाद उन्होंने फिर से खूब मेहनत की और 12वीं की परीक्षा में 88.5 प्रतिशत अंक हासिल कर अपनी प्रतिभा को साबित किया। रमेश शिक्षा की अहमियत को भलि-भांति जानते थे और यह भी जानते थे कि शिक्षा के जरिए ही वो अपने परिवार को गरीबी के दलदल से बाहर निकाल सकते हैं। वहीं मां दिन भर दूसरे के खेतों में काम करती, रेहड़ी लगाती, तब जा कर चंद पैसे हाथ पर आते जिससे दोनों बेटों की परवरिश होती।अतीत के पन्नों को पलटते हुए रमेशजी कहते हैं कि संघर्ष जीवन को निखारता है। मेरे पास न रहने के लिए घर था और न पढ़ने के लिए पैसे, था तो सिर्फ हौसला, जो सपनों को पूरा करने के लिए काफी था। मेरा बचपन मौसी को सरकारी योजना के तहत मिले इंदिरा आवास में बीता। वहां आजीविका की तलाश के साथ पढ़ाई करते रहा, लेकिन जिंदगी को मुझे अभी और परखना बाकी था। पिताजी जल्दी चले गए। मां ने मेहनत करके मुझे संवारा। आज जो भी बन पाया हूं, केवल मां की मेहनत के कारण ही बन सका हूं।

कहते हैं प्रतिकूल परिस्थितियों से निकलकर सफलता तक जाने वाली हर यात्रा अद्भुत, अनोखी और अद्वितीय होती है। सवाल इस बात का नहीं होता कि आप आज क्या हैं, क्या कर रहे हैं, क्या उम्र और समय है। बस एक हौंसला चाहिए,  जीवन की लहरों में तरंग तभी पैदा होगी जब आप वैसा कुछ करेंगे।


रमेशजी आगे कहते हैं कि जब आप आर्थिक रूप से सक्षम नहीं होते हैं, तो जिंदगी हर घड़ी आपकी कठिन परीक्षा लेती है। मैंने वह दिन भी देखे हैं, जब घर में अन्न का एक दाना भी नहीं होता था। फिर पढ़ाई में खर्च भी बहुत बड़ी मुसीबत थी।‘महागांव’ में रमू की सच्चाई बच्चा-बच्चा जानता है। तंगहाली के दिनों में मैंने दीवारों पर नेताओं की घोषणाओं, दुकानों का प्रचार, शादियों में सजावट और पेंटिंग्स भी की है। इन सब से जो कुछ भी आय होती थी, वह पढ़ाई और किताबों पर खर्च करते थे। एक बार मां को सामूहिक ऋण योजना के तहत गाय खरीदने के नाम पर 18 हजार रुपये का ऋण मिला, जिसका इस्तेमाल उन्होंने मेरी पढ़ाई पर किया और हम गांव छोड़ कर इस इरादे से बाहर निकले कि कुछ बन कर ही घर लौटेंगे।

रमेश घोलपजी 12वीं में अच्छे अंक लाने के बाद डीएड की पढ़ाई करना चाहते थे ताकि उन्हें जल्द से जल्द शिक्षक की नौकरी मिल सके और वो घर की आर्थिक तंगी दूर कर सकें। डीएड की पढ़ाई के साथ ही उन्होंने ओपन यूनिवर्सिटी में आर्ट से स्नातक की डिग्री भी हासिल की और फिर साल 2009 में शिक्षक की नौकरी की। भले ही शिक्षक की नौकरी उनके परिवार के लिए सपनों के सच साबित होना जैसा थी, मगर हकीकत में रमेशजी का सपना कुछ और ही था। रमेशजी गरीबों की मदद करना चाहते थे, समाज को भ्रष्टाचार से मुक्त कराना चाहते थे जो कि एक शिक्षक के लिए बेहद मुश्किल काम था। लिहाजा उन्होंने समाज और सिस्टम की इन बुराइयों को मिटाने के लिए खुद को सक्षम बनाने का फैसला लिया। हालांकि सरकारी शिक्षक की नौकरी छोड़ना रमेश और उनके घरवालों के लिए भी एक बेहद कठिन फैसला था लेकिन रमेशजी के मुक्कदर में तो कुछ और ही लिखा था। 

जब 2010 में हम लोगों के पास रहने के लिए खुद का घर नहीं था, तब मैंने टीचर की सरकारी नौकरी से इस्तीफ़ा देकर सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करने का निर्णय लिया। उस समय भी मां मेरे निर्णय के पीछे खड़ी रही। ‘हम लोगों का संघर्ष और कुछ दिन शुरू रहेगा, लेकिन तुम्हारा जो सपना है उसके लिए तू पढ़ाई कर’ यह कहकर मेरे ऊपर ‘विश्वास’ दिखाने वाली मेरी ‘आक्का’ (मां) पढ़ाई की दिनों में सबसी बड़ी प्रेरणा थी। सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के दिनों में जब भी पढ़ाई से ध्यान विचलित होता था, तब मुझे दूसरों के खेत में जाकर मजदूरी करने वाली मेरी मां याद आती थी।

आखिरकार टीचर की नौकरी छोड़ कलेक्टर बनने का सपना आंखों में संजोए रमेशजी साल 2010 में यूपीएससी की तैयारी के लिए पुणे पहुंचे हालांकि पहले प्रयास में वो विफल रहे। इसी दौरान उन्होंने गरीब और असहाय लोगों की सहायता करने के मकसद से स्थानीय पंचायत चुनाव में अपनी मां श्रीमती विमल घोलप को सरपंच के उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारा लेकिन उनकी मां कुछ ही मतोंं से चुनाव हार गईं। रमेशजी 23 अक्टूबर 2010 के चुनाव परिणाम की तिथि को अपने जीवन का सबसे बड़ा मोड़ मानते हैं जिसका जिक्र  उन्होंने अपनी आत्मकथा ‘इथे थंबने नाही’ में भी किया है। चुनाव की हार से दुखी रमेशजी ने अपने जीवन में हार न मानने की ठान ली और पूरे गांव के सामने ऐलान कर दिया कि वो गांव छोड़कर जा रहे हैं और एक काबिल अफसर बनने के बाद ही वो इस गांव में अपने कदम रखेंगे।रमेशजी ने हिम्मत नहीं हारी और एक बार फिर अपने सपनों में रंग भरने में जुट गए। उन्होंने स्टेट इंस्टीट्‍यूट ऑफ एडमिनिस्ट्रेटिव करियर्स की परीक्षा पास की। इससे उन्हें हॉस्टल में रहने की सुविधा और वजीफा मिलने लगा। फिर वो दिन भी आया जब साल  2012 में रमेश घोलप ने यूपीएससी की परीक्षा में 287वीं रैंक हासिल की। बिना किसी कोचिंग के निरक्षर माता-पिता की संतान रामू ने आईएएस बनकर दिखा दिया। इसी वर्ष उन्होंने महाराष्ट्र पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा में रिकॉर्ड तोड़ सफलता पाई। आईएएस बनने के बाद जब 4 मई 2012 को अफसर बनकर पहली बार गांव पहुंचे, तब उनका जोरदार स्वागत हुआ। आख़िर होता भी क्यों नही? वह अब मिसाल बन चुके थे। उन्होंने अपने हौसले के बलबूते यह साबित कर दिया था, अगर करना चाहों तो इस दुनिया में कुछ भी मुश्किल नहीं है।

मन में उमंग हो और जीवन में कुछ करने की ललक हो तो अपंगता की अड़चन भी प्रगति में आड़े नहीं आ पाती। इस क्रम में अवरोध तब पैदा होता है, जब निजी अक्षमता को लेकर इंसान अपनी सामर्थ्य को कम करके आंकना शुरू करता है, पर सच्चाई यह है कि उसकी असमर्थता शारीरिक कम, मानसिक ज्यादा होती है और इसे साबित करती आईएस रमेश घोलपजी की अद्भुत कहानी। 

अफसर बनने के बाद गांव पहुंचने पर इस तरह हुआ स्वागत

संघर्ष की कहानी, रमेशजी की जुबानी

रमेशजी बताते हैं कि मुझे कलेक्टर बनना है ऐसा माता-पिता ने कभी नहीं सोचा था। कॉलेज के दौरान राजनीति और सामाजिक क्षेत्र में काम करते समय लोगों की समस्याओं को करीब से देखा था। इस समय बड़े अधिकारी तो दूर की बात, ग्रामसेवक को मिलने के लिए भी जद्दोजहद करनी पड़ती थी। हमारी खुद की आधा एकड़ जमीन तक नहीं थी, न खुद का घर था। मां घर-घर घूमकर कंगन-चूड़ियां बेचती थीं। ऐसे विपरीत समय में स्थानीय जनप्रतिनिधि और अधिकारियों से मिलकर ‘इंदिरा आवास योजना’ से एक घर मंजूर हो, इसके लिए विनती करने पर भी मायूसी हाथ लगती थी जबकि दूसरी ओर कई एकड़ खेती के मालिक और गाड़ी लेकर घूमने और अच्छे घर वालों को ऐसी योजना से घर मंजूर होता था, तो मन में गुस्से की आग पैदा होती थी। सरकारी सेवा में गांव में नौकरी करने वाली एक विधवा, वृद्ध महिलाओं से पेंशन दिलाने के बहाने पैसे लेती थी। नसीब को कोसने वाली देहात की ऐसी कई गरीब महिलाएं आर्थिक शोषण का शिकार होती थीं। इन महिलाओं में मेरी मां ‘आक्का’ भी शामिल थी। यह स्थिति बदलनी चाहिए, ऐसा हमेशा लगता था। समाज की इन्हीं बुराईयों ने रमेशजी को अंदर से झकझोर कर रख दिया और फिर उन्होंने इन्हीं बुराईयों से लड़ने की ठान ली थी।

बेल्ट न होने के कारण मेरी पेंट कमर पर फिट करने का जिम्मा करदोड़ा (काला धागा, जो कमर में बांधा जाता है) संभालता था। इस धागे को लकड़ी से फिट कर पेंट कमर में फिट की जाती थी। इस समय ‘डूबते को तिनके का सहारा’ यह मुहावरा मुझपर परफेक्ट लागू होता था। मुझे चप्पल पहनकर चलने में काफी मुश्किल होती थी, शूज लेने की स्थिति न होने के कारण कई साल नंगे पांव चलने का अनुभव भी लिया है। पिताजी की बीमारी के दौरान सरकारी अस्पताल में जाना पड़ता था। वहां भी कई बुरे अनुभवों से गुजरना पड़ता था। कॉलेज के समय में छात्र संगठनों का नेतृत्व करते समय जब मोर्चा या आंदोलन लेकर ज्ञापन सौंपने तहसीलदार ऑफिस जाते थे, तब लगता था कि, ‘तहसीलदार बनना चाहिए’। लोगों के लिए काम करने की कोशिश और जिद ही मेरी प्रशासन में आने की प्रेरणा है और इस प्रेरणा से आखरी सांस तक इमानदार रहूंगा।

कलेक्टर बनने के बाद जब मां पहुंची दफ्तर…

रमेशजी बताते हैं कि जब मैंने दूसरी बार ‘कलेक्टर’ का पदभार ग्रहण किया, उसके बाद मां एक दिन ऑफिस में आई। बेटे के लिए अभिमान उनके चेहरे पर स्पष्ट तौर पर दिखाई दे रहा था। आईएएस बनने के बाद पिछले 6 साल में उसने मुझे कई बार कहा है, “रामू, जो हालात हमारे थे, जो दिन हम लोगों ने देखे हैं, वैसे कई लोग यहां पर भी है। उन ग़रीब लोगों की समस्याएं पहले सुन लिया करो, उनके काम प्राथमिकता से किया करो। ग़रीब, असहाय लोगों की सिर्फ़ दुआएं कमाना, भगवान तुझे सब कुछ देगा”।

जरूरतमंदों की मदद को बनाया मकसद

 आईएएस बनने के बाद मैंने तय किया कि अब मेरे जैसे ग्रामीण गरीब युवा, जिनके पास टैलेंट तो है, पर केवल हौसले की कमी और मार्गदर्शन के अभाव में अफसर बनने का सपना भी नहीं देखते, उनको प्रेरित करेंगे। मैंने अब तक 400 से ज्यादा कार्यक्रमों के जरिए युवाओं में उत्साह भरने का काम किया है। आज भी सोशल मीडिया और कार्यक्रमों के द्वारा यह काम जारी है।आज प्रशासन में काम करते समय जनता दरबार लगाकर जब मैं खुद तीन घंटे में ऑन द स्पॉट पेंशन मंजूर करता हूं, तब मेरी आक्का समेत वह सब महिलाएं मेरी आंखों के सामने आ जाती हैं। बाल-कामगारों को त्रासदी से मुक्त कर उन्हें अपने खर्चे से यूनिफॉर्म, स्कूल बैग, शूज, बेल्ट देते समय मुझे मेरे बचपन के दिन जरूर याद आते हैं। खूंटी और बोकारो जिले में काम करते समय कई राशन दुकानदार और रॉकेल के हॉकर्स को कालाबाजारी और अनियमितता पाए जाने पर जेल भेजा। एक ही दिन में 39 दुकानदारों के लाइसेंस सस्पेंड कर 123 दुकानदारों को ‘कारण बताओ’ नोटिस जारी किया। तब मुझे मेरे घर का वह कम मिट्टी के तेल का ‘दीया’ याद आता था। कई सरकारी अस्पतालों में जाकर वहां की स्थिति सुधारने का प्रयास किया। तब मेरे पिताजी और उनके जैसे कई लोग याद आते थे, जो सुविधाओं से वंचित थे। अधिकारी के रूप में कार्यक्षेत्र में घूमते समय परियोजना पीड़ितों की समस्याएं जानने की कोशिश करता हूं। जरूरतमंदों को ही ‘इंदिरा आवास’ मिलना चाहिए, ऐसा सफल प्रयास आज एक अधिकारी के रूप में मैं करता हूं, तब मुझे मेरे बेघर होने के पुराने दिन याद आते हैं।आज रमेश घोलप प्रशासनिक जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए मानवीय सरोकारों के लिए जाने जाते हैं। देश की सर्वश्रेष्ठ सेवा ‘आईएएस’ में शामिल होकर उन्होंने ऐसे लाखों युवकों को प्रेरित किया जो संघर्ष के बूते कुछ कर गुजरने का सपना देखते हैं। परिस्थितियों ने जहां उन्हें जीवन के लिए लड़ना सिखाया, वहीं गरीबी, शराबी पिता और भूख ने एक सपने को जन्म दिया। कठिन परिश्रम और सच्ची लगन ने उस सपने को हक़ीकत का नाम दिया, जो आज लाखों लोगों के लिए प्रेरणा है। आज दुनिया उसे आईएएस रमेश घोलप के नाम से जानती है। हजारों हाथ उसकी दुआ में उठते हैं, उसे सलाम करते हैं।

संघर्ष की स्याही से जो लिखते हैं इरादों को, उनके मुक़द्दर के पन्ने कोरे नहीं होते’

रमेशजी की कहानी आज हिंदुस्तान के लाखों लोगों की जिंदगी को एक नई दिशा दे रही है। आप इसे एक साधारण बच्चे की असाधारण सफलता की दास्तां मान सकते हैं मगर मेरे लिए रमेश घोलप के असल जिंदगी की कहानी का एक-एक पन्ना उस लाइफ चेंजिंग किताब की तरह है,जिसे पढ़कर विपरीत परिस्थितियों में मेरे अंदर भी एक विश्वास सा जागता है और मुश्किल समय में खुद पर यकीन करने का साहस मिलता है।

हर रोज आपके आसपास और सोशल मीडिया पर नकारात्मक खबरें और उत्तेजना फैलाने वाली प्रतिक्रियाओं के बीच Pozitive India की कोशिश रहेगी कि आप तक समाज के  ऐसे हीअसल नायकों की Positive, Inspiring और दिलचस्प कहानियां पहुंचाई जा सकें, जो बेफिजूल के शोर-शराबे के बीच आपको थोड़ा सुकून और जिंदगी में आगे बढ़ने का जज्बा दे सकें।

Tags:

You Might also Like

1 Comments

  1. Suryadeo Kumar Das March 1, 2020

    मैं आपसे बहुत प्रभावित हुआ हूं सर
    आपने आज साबित कर दिया कि मनुष्य अपने शरीर से नहीं अपने बुद्धि से अपाहिज होता है अगर लक्ष्य पाना हो तो कड़ी मेहनत और सच्ची लगन होनी चाहिए इन सब बातों को अपने सच कर दिया और अपने मंजिल को पाया आप काबिले तारीफ है सर मैं आपसे बहुत कुछ सीखा और आपके जीवनी को पढ़कर हम सबको अच्छी प्रेरणा मिली
    धन्यवाद सर

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *