LOADING

Type to search

Inspiring+UP

दिल जीत लेगी वर्दी के दरिया-दिली की ये दास्तां

Share

नमस्कार…पाजिटिव इंडिया की उम्मीदों और सकारात्मक सोच की दुनिया में आपका स्वागत है। हम हिंदुस्तानियों की एक कमजोरी है या फिर यूं कह लीजिए कि हम धारणाओं में जीने वाले लोग हैं। ऐसी ही एक धारणा हमारे देश में पुलिस को लेकर दशकों से चली आ रही है। वर्दीवाले कितना भी अच्छा और नेक काम क्यों ना कर लें लेकिन हम आज तक खाकी को हमेशा खलनायक मानने की अपनी मानसिकता को बदल नहीं पाए हैं जबकि हकीकत कुछ और है। लिहाजा POZITIVE INDIA (पाजिटिव इंडिया) आज आपको ‘वर्दी के दरियादिली’ और मानवीय संवेदनाओं की एक और ऐसी दास्तां सुनाने जा रहा है, जिसे सुनने और पढ़ने के बाद आपका नजरिया हमेशा के लिए बदल जाएगा और आपका मन भी खाकी को दिल से सलाम करने के लिए मचल जाएगा।

पुलिस के मानवीय पहलू को उजागर करती ये तस्वीर उत्तरप्रदेश के आगरा के लोहा मंडी थाना की है। जहां एक ई-रिक्शा चालक की बेटी अपनी फरियाद लेकर पुलिस थाने पहुंची और गुजारिश करते हुए कहा कि सर मेरे पापा बहुत गरीब हैं, प्लीज उनके रिक्शे का चालान माफ कर दीजिए…आज मेरा जन्मदिन है।

मिलिए उनसे ‘वर्दी को जिन पर नाज है’

मासूम बिटिया के मुंह से इन शब्दों को सुनते ही मौके पर मौजूद थाना इनचार्ज का दिल पसीज गया और उन्होंने फौरन ही थाने में केक मंगवाया और उस बिटिया के हांथो केक कटवाकर उसका जन्मदिन मनाया। इतना ही नहीं इसके बाद थाना इनचार्ज ने मासूम के पापा का ई-रिक्शा वापस सौंपकर बर्थडे का अनमोल तोहफा भी दिया। शायद गरीब रिक्शा चालक की बेटी के लिए उस दिन इससे बड़ा गिफ्ट कुछ और हो भी नहीं सकता था। यकीनन पुलिस की इस नेक पहल ने रिक्शा चालक की बेटी के लिए उसका ये जन्मदिन सबसे खास बना दिया, जिसे वो ताउम्र नहीं भूलेगी।

ऐसी भी होती है पुलिस

आगरा के लोहा मंडी थाना से सामने आई दिल को छू लेने वाली ये बेहद खूबसूरत तस्वीर एक बार फिर साबित करती है कि किसी को भी हमेशा एक पैमाने पर मापना ठीक नहीं होता। खाकी का एक और चेहरा भी है, वर्दी के अंदर भी एक दिल धड़कता है और उनमें भी संवेदनाएं होती हैं। मगर अफसोस पुलिस की नेक दिली और इंसानियत की खबरें कभी भारतीय मीडिया में अपनी जगह नहीं बना पाती।

पुलिस की इस नेक पहल और ऐसे पुलिसकर्मियों को पॉजिटिव इंडिया Pozitive India तहेदिल से सलाम करता है,साथ ही उम्मीद भी करता है कि देश और समाज का पुलिस के प्रति नजरिया बदलेगा और वर्दी वालों को वो सम्मान भी मिलेगा, जिसके वे हकदार हैं।

पाजिटिव इंडिया (www.pozitiveindia.com) की कोशिश हमेशा आपको हिंदुस्तान की उन गुमनाम हस्तियों से मिलाने की रही है जिन्होंने अपने नए तरीके से बदलाव को एक नई दिशा दी हो और समाज के सामने संभावनाओं की नई राह खोली हो। हर रोज आपके आसपास सोशल मीडिया पर नकारात्मक खबरें और उत्तेजना फैलाने वाली प्रतिक्रियाओं के बीच हम आप तक समाज के ऐसे ही असल नायक/नायिकाओं की Positive, Inspiring और दिलचस्प कहानियां पहुंचाएंगे, जो बेफिजूल के शोर-शराबे के बीच आपको थोड़ा सुकून और जिंदगी में आगे बढ़ने का जज्बा दे सकें।

Tags:

You Might also Like

1 Comments

  1. Soumya January 19, 2021

    Kind gesture 🤘🤗

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *