LOADING

Type to search

मिलिए हिंदुस्तान को सेहतमंद बनाने के लिए ‘शुद्ध का युद्ध’ छेड़ने वाली पल्लवी व्यास से

mayankshukla 9 months ago
Share

जिंदगी एक कहानी है। हर कहानियों में रंग, कहीं फीके तो कहीं गाढ़े रंग, उदासी और उत्साह के रंग। ये हम सबकी जिंदगी में होता है। हम चलते हैं, गिरते हैं, उठते हैं और जिंदगी आगे बढ़ती जाती है। बस फर्क इतना होता है कि कुछ लोग जिंदगी में आई मुश्किलों से टूट जाते हैं तो कुछ मुसीबतों की आंखों में आंखे डाल भिड़ जाते हैं। विपरीत हालातों में भी अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति के जरिए वो जीत जाते हैं और उदाहरण बन जाते हैं हम सभी के लिए। हमारे ही इर्द-गिर्द न जाने कितने ही ऐसे लोग हैं, जिन पर मुसीबतों का पहाड़ टूटा, मदद के सारे दरवाजे बंद हो गए लेकिन वो रुके नहीं बल्कि आगे बढ़ते गए। दरअसल दुनिया को ऐसे लोगों ने ही गढ़ा है। ऐसे लोग ही जिंदगी को ज्यादा मायनेदार बना रहे हैं। हमारी आज की कहानी भी एक ऐसी ही शख्सियत की है जिन्होंने असल मायने में जिंदगी को एक नई पहचान देने के साथ ही महिला सशक्तिकरण की एक नई मिसाल पेश की है।

असल जिंदगी की कुछ कहानियां ऐसी होती हैं जो हमें सपनों पर यक़ीन करना सिखाती हैं। जिंदगी के पथरीले सफर में पहाड़ सी परेशानियों को परास्त कर आगे बढ़ना सिखाती हैं। इंदौर मे रहने वाली पल्लवी व्यास की कामयाबी की कहानी भी कुछ ऐसी ही है। ये कामयाबी की वो कहानी है जिसका ताना-बाना कड़ी मेहनत, बड़ी शिद्दत और लगन से बुना गया है पल्लवी व्यास एक ऐसी निडर और आत्मनिर्भर महिला हैं, जो आज समाज के लिए मिसाल बन कर उभरी हैं। पल्लवीजी ने ज़िंदगी में आई अनगिनत अड़चनों को लांघते हुए अपनी मेहनत के दम पर शिखर की चोटियों को चूमा है और साथ ही कई ऐसी महिलाओं को उस काबिल भी बना रही हैं जो सिर्फ घर के चूल्हे-चौके तक ही सिमट कर रह गई थीं।

हालांकि कुछ साल पहले तक पल्लवी की जिंदगी भी घर-गृहस्थी संभालने तक ही सिमटी थी, लेकिन घर में हुई एक घटना ने उनकी पूरी जिंदगी बदलकर रख दी और उन्हें उस मुकाम पर पहुंचाया जहां पहुंचना लोगों का ख्वाब होता है। पल्लवी व्यास आज एक बेहद सफल एंटरप्रेन्योर के तौर पर पहचानी जाती हैं, जिनकी मिसाल आज जमाने भर में दी जाती है। वैसे तो डेयरी फार्म पुरुषों का कार्यक्षेत्र माना जाता है लेकिन लीक से हटकर शांता फॉर्म की नींव रखने वाली इंदौर की पल्लवी व्यास ने ना सिर्फ समाज की इस मानकिसता को बदलकर दिखाया है बल्कि देश की लाखों महिलाओं के लिए भी तरक्की की एक नई राह खोलकर उनका हौंसला बढ़ाया है।

कहते हैं महिलाओं की जिंदगी उस कच्ची मिट्टी की तरह होती है जो अलग-अलग सांचों में ढलकर अपने अलग-अलग रूप बदलती है। एक मां, एक बेटी, एक बहन, एक बहू, एक सास, एक सखी और एक साथी। ना जाने कितने ही किरदार निभाने पड़ते हैं एक महिला को अपनी जिंदगी में। अपनी पहचान के लिए जिंदगी भर जद्दोजहद करनी पड़ती है। बावजूद इसके कुछ ऐसी भी महिलाएं हैं जिन्होंने ना सिर्फ अपनी पहचान खुद बनाई है बल्कि अपने वजूद को नाम भी दिया है। पल्लवी व्यास भी एक ऐसी ही शख्सियत हैं, जो समाज की बेहतरी और बदलाव के लिए एक साथ कई क्षेत्रों में प्रभावी भूमिका निभा रही हैं।

पल्लवी व्यास का एक घरेलू महिला से सफल उद्यमी बनने का सफर काफी प्रेरणादायी है। दरअसल पल्लवीजी की सास को ब्लड कैंसर हो गया था, लाख प्रयास के बावजूद डॉक्टर उन्हें बचा नहीं पाए। ये घटना पल्लवी के परिवार के लिए आघात पहुंचाने वाली थी। अध्ययन के दौरान पता चला कि उनके सास को हुए कैंसर की बड़ी वजह दूध-सब्जी जैसे खाने-पीने के सामान में इस्तेमाल होने वाले घातक केमिकल और पेस्टीसाइड हैं। अंदर से तोड़कर रख देने वाली इस घटना के बाद पल्लवी व्यास ने तय किया कि वो समाज को हानिकारक और जानलेवा केमिकल्स से बचाने के लिए केमिकल रहित शुद्ध और ऑर्गेनिक फूड्स मुहैया कराएंगी।  35 साल की उम्र तक पल्लवी व्यास भी ज्यादातर महिलाओं की तरह होममेकर थीं। एग्रीकल्चर से उनका और उनकी पूरी फैमिली का दूर-दूर तक कोई नाता नहीं रहा। इस वक्त अपने बेटे और बेटी को बेहतर फ्यूचर और एजुकेशन देना ही उनकी जिंदगी का एकमात्र मकसद था। लेकिन घर आने वाली खाने-पीने की मिलावटी चीजें उन्हें हमेशा चिंतित करती थीं क्योेंकि ये बीमारी का सबब थीं। लिहाजा कैंसर से सास को खोने के बाद उन्होंने तय कि ऐसा किसी दूसरे परिवार के साथ ना हो इसलिए कुछ ऐसा काम किया जाए जिससे समाज को भी लाभ हो। इसी सोच को साकार करने के मकसद से साल 2016 में अपनी मदर इन ला के नाम से ही शांता फार्म की नींव रखी। सबसे पहले शुद्ध दूध और हाइजैनिक सब्जी का काम शुरू किया और इसके बाद जुलाई में कांच की बोतल में दूध सप्लाय करना शुरू किया, जिसे लोगों ने काफी पसंद किया।

पल्लवी पुराने दिनों को याद करते हुए बताती हैं कि साल 2007-2009 के बीच का वक्त था। मेरे छोटे बेटे की डिलेवरी के वक्त सास इंदौर आई हुई थीं। इस दौरान उन्हें कैंसर डिटेक्ट हुआ, तब तक मेरा बेटा एक साल का हो चुका था। मेरे ऊपर कई जिम्मेदारियां आ पड़ीं। छोटे-छोटे बच्चों की देखभाल के साथ ही सास को संभालना। उन्हें बचाने के लिए हमने हर संभव प्रयास किए लेकिन सारी कोशिशें नाकाम रही। घर में अचानक दुखों का पहाड़ टूट पड़ा और मैं भी डिप्रेशन में आ गई। निराशा और अवसाद की काली रात, हर तरफ मुश्किलें और हार का भय। चुनौतियां मुंह बाए अपने विकराल रूप में खड़ी रहीं, लेकिन इन सबके बावजूद समाज को कुछ देने के मसकद से मैं अपने साहस के साथ जुटी रही, काली रात को भोर में बदलने के लिए। कई बार ऐसा लगा कि नहीं, शायद अब और नहीं मगर तभी उन्हीं अंधेरों के बीच से जिंदगी ने कहा कि देखो उजास हो रहा है।

जिस वक्त शांता फार्म की नींव पड़ी उस वक्त पल्लवी की उम्र चालीस के आसपास हो चली थी। उम्र के इस पड़ाव पर लीक से हटकर इतना जोखिम लेने का जज्बा कम ही देखने को मिलता है। लेकिन समाज को शुद्ध खाद्य सामग्री देने के साथ ही केमिकल से होने वाले नुकसान को लेकर जागरुकता फैलाने के अपने जुनून को पल्लवी व्यास ने कभी कम नहीं होने दिया।मूलत: राजस्थान की रहने वाली पल्लवी व्यास ने बीएससी और टैक्सटाइल केमिस्ट्री में डिप्लोमा के साथ ही एमबीए भी किया है। लेकिन खेती-बाड़ा और पशु-पालन का उन्हें जरा भी अनुभव नहीं था। लिहाजा उन्होंने इस क्षेत्र कदम रखने से पहले खुद को इसके लिए तैयार किया। देश के बड़े फार्म्स की प्रोसेस स्टडी की, पुणे और मुंबई के कई बड़े डेयरी फार्म का दौरा किया, लंबा समय फार्म पर गुज़ार कर गायों की देखभाल की जानकारी और खुद भी फार्मिंग सीखी। इसके बाद एडवोकेट पति संजय व्यास के सहयोग से इस मुश्किल काम को पूरा करने में जी-जान से जुट गई।

पल्लवी 2016 के उस दौर को याद करते हुए कहती हैं, “हमारे पास ना जमीन थी, ना ज्यादा जानकारी थी बस एक आइडिया था कि डेयरी फार्म खोलना है, लोगों को शुद्ध दूध उपलब्ध कराना है।“ पति, रिश्तेदारों और बैंक की मदद से इंदौर से 60 किलोमीटर दूर बड़वाह-महेश्वर के बीच करही गांव में जमीन खरीदी क्योंकि इंदौर के आसपास की जमीन पेस्टीसाइट वाली थी और काफी महंगी भी। इसलिए पहाड़ी क्षेत्र पर जमीन लेकर उसे तालाब की मिट्टी से लेवल किया ताकि उसका रासायनिक असर खत्म हो जाए। यहां गायों के लिए ऑर्गेनिक चारा भी उगाया।  इस तरह मुंबई की तर्ज पर प्रदेश का पहला मैकेनाइज्ड शांता डेयरी फार्म स्टार्टअप शुरू हुआ।

वर्ल्ड स्टैंडर्ड का फार्म किया स्थापित 

पल्लवी का शांता फार्म मैकेनाइज्ड और आधुनिक सुविधाओं से लैस है। यहां बिदाउट ह्यूमन टच आटोमेटेड तरीके से दूध निकाला जाता है। फार्म में चौबीस घंटे वेटनरी डॉक्टर रहते हैं। बीमारी गाय का दूध नहीं निकाला जाता। एक-एक गाय का ख्याल रखा जाता है। हर गाय में सेंसर लगा है, जिससे उसके मिल्किंग, बीमारी आदि सभी का रिकॉर्ड रहता है। कुल मिलाकर गायों की इतनी देखभाल की जाती है कि वो बीमार ही नहीं पड़ती हैं। मिल्किंग के पहले और बाद में गायों को नहलाया जाता है। फॉर्म पर उगाया गया ऑर्गेनिक चारा ही गायों को खिलाया जाता है।

पल्लवी व्यास ने समाज को शुद्ध खाद्य पदार्थ देने की जिम्मेदारी के साथ ही गायों की नस्ल सुधारने का बीड़ा भी उठा रखा है। इसके लिए उन्होंने अपने 50 एकड़ के फार्म पर हर नस्ल के उन्नत बुल पाले हैं और ब्रीडिंग पर काफी ध्यान दिया जा रहा है।

पल्लवी का मानना है कि गाय को मां कहा जाता है और मां की अगर सही देखभाल होगी तो वो भी अपने बच्चों का अच्छे से ख्याल रख पाएगी यानि अच्छी क्वालिटी का दूध देगी। पल्लवी बताती हैं कि हमने 6 गिर नस्ल की गायों से डेयरी फार्म शुरू किया था और आज उनके फार्म में 200 सेे ज्यादा गाय हैं। जिनमें गिर, कांकरेज, साहीवाल, राठी, निमाड़ी और हॉलिस्टियन फ्रीशियन नस्ल  की गाय शामिल हैं। डेयरी फार्म पर रोजाना 1000 लीटर दूध का उत्पादन होता है। इस दूध को कांच की बोतलों में पैक कर सप्लाई किया जाता है। 

 खुद आत्मनिर्भर बनने के बाद पल्लवी व्यास ने देश की बाकी महिलाओं को भी खुद के पैरों पर खड़े होने का साहस दिया। पल्लवीजी ने 300 महिलाओं के समूह को वाकाायदा फार्मिंग की ट्रेनिंग देने के साथ ही 5-5 पशु भी दिए ताकि वो भी खुद की डेयरी खोलकर अपने पैरों पर खड़ी हो सकें। इसके अलावा पल्लवीजी देशभर के किसानों के बीच जागरुकता फैलाकर आर्गेनिक खेती से जोड़ने के लिए मोटिवेट भी करती हैं। साथ ही किसानों के प्रोडक्ट को एक ब्रांड का रूप देकर उन्हें आर्थिक रूप से सशक्त बनाने की उनकी कोशिश भी जारी है।

पल्लवी की सोच को देश-विदेश में मिला सम्मान

एक साधारण गृहणी से असाधारण डेयरी फार्मर बनने का पल्लवी व्यास का सफर कभी इतना आसान नहीं रहा लेकिन जिंदगी में आने वाली तमाम चुनौतियों का उन्होंने हमेशा डटकर मुकाबला किया और मुसीबतों को मात देकर कामयाबी का एक नया इतिहास लिखा। यही वजह है कि ना सिर्फ देश-प्रदेश बल्कि विदेशों में डेयरी फार्मिंग के क्षेत्र उत्कृष्ट कार्य के लिए उन्हें सम्मानित किया गया। पल्लवी व्यास को इंडिया एसएमई फोरम द्वारा नारी शक्ति अवॉर्ड, मध्य प्रदेश सरकार द्वारा नारायणी नम: अवार्ड, वुमेन ऑफ इंदौर-2018 पुरस्कार, इंडो ग्लोबल एमएमई चैंबर द्वारा वुमेन एंड बिजनेस अवार्ड, बेस्ट स्टार्टअप अवार्ड समेत कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह द्वारा भी टॉप 100 एसएमई ऑफ इंडिया अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है। हाल ही में उन्हें प्रतिष्ठित कृषि भूषण अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है।पल्लवी पोलैंड में आयोजित वार्षिक यूरोपियन एसएमई कॉन्फ्रेंस में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। हाल ही में उन्हें यूएस काउंसलेट की इन्वेस्टर्स समिट में भी बुलाया गया था। पल्लवी एंबेसी ऑफ नीदरलैंड के साथ वूमेन फार्मर डवलपमेंट के प्रोजेक्ट पर भी काम कर रही हैं। पल्लवी ने अपनी मेहनत और जुनून के दम पर महज चार साल में ही एक छोटे से फार्म को इंटरनेशनल लेवल पर बड़ी पहचान दिलाई है।

आज के नए भारत में नारी शक्ति की मिसाल बनकर उभरीं पल्लवी व्यास कहती हैं कि भले ही डेयरी फार्मिंग महिलाओं का बिजनेस नहीं माना जाता लेकिन ये उतना भी मुश्किल काम नहीं है। डेयरी फार्मिंग के क्षेत्र में बहुत संभावनाएं हैं, लेकिन इस सेक्टर में सफलता पाने के लिए जरूरत है तो जज्बे और जुनून की।  पल्लवीजी की कहानी साबित करती है कि अगर इरादा पक्का हो तो बड़ी से बड़ी दीवार भी गिर जाती है। उम्र चाहे कितनी भी हो अगर मन में कुछ करने की चाह हो तो दुनिया में कोई भी काम मुश्किल नहीं है। यकीन मानिए अगर मुश्किलों से जीतना है तो देश की हर महिला को पल्लवी व्यास की जिंदगी से सीखना होगा। 

पॉजिटिव इंडिया की कोशिश हमेशा आपको हिंदुस्तान की उन गुमनाम हस्तियों से मिलाने की रही है जिन्होंने अपने नए तरीके से बदलाव को एक नई दिशा दी हो और समाज के सामने संभावनाओं की नई राह खोली हो। हर रोज आपके आसपास और सोशल मीडिया पर नकारात्मक खबरें और उत्तेजना फैलाने वाली प्रतिक्रियाओं के बीच हमारी कोशिश रहेगी कि आप तक समाज के  ऐसे ही असल नायक/नायिकाओं की Positive, Inspiring और दिलचस्प कहानियां पहुंचाई जा सकें, जो बेफिजूल के शोर-शराबे के बीच आपको थोड़ा सुकून और जिंदगी में आगे बढ़ने का जज्बा दे सकें।

Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *