LOADING

Type to search

Share

जिंदगी की वो शाम जो ढलती जा रही है, वो पड़ाव जब जब हाथ-पैर खुद का सहारा नहीं बन पाते और जिंदगी खुद एक बोझ बन जाती है, तब जरूरत होती है किसी के सहारे की, वो सहारा जो इन हांथों को थामकर उम्रदराज हो चली इस जिंदगी को किनारे लगा दे ताकि बाकी का समय सुकून में कट सके। लेकिन मैं जिनकी कहानी आज आपको बताने जा रहा हूं वो उम्र के इस पड़ाव में भी अपनी जिंदगी को एक मिशन के तौर पर जी रहे हैं। आत्म सम्मान और खुद्दारी की लड़ाई बखूबी लड़ रहे हैं। नए जोश और जुनून से दूसरों को भी समाज के लिए कुछ करने की प्रेरणा दे रहे हैैं। आंखों की रोशनी भले ही धीमी हो गई है लेकिन हौंसलों की धार से वो आज भी अपनी राह खुद बना रहे हैं। 

मेरठ का क्लब- 60 यानि जिंदगी का T-20

कहते हैं मजबूत इरादों पर उम्र की दीमक नहीं लगती। अगर ठान लें तो कुछ भी नामुमकिन नहीं है, फिर उम्र तो महज एक आंकड़ा भर है और इस बात को सच साबित किया है मेरठ के क्लब-60 के जुनूनी सदस्यों ने। जिस उम्र में लोग रिटायरमेंट का मजा ले रहे होते हैं, परिवार के साथ धार्मिक यात्राओं पर होते हैं, उस दौर में क्लब-60 के सदस्यों ने कुछ अलग और ऐसा करने की ठानी कि इनका जज्बा,जोश और जुनून देखकर पीएम मोदी भी इनकी तारीफ करने से खुद को नहीं रोक सके।

रिटायरमेंट के बाद भी जिंदगी LIVE

मेरठ के टैगोर पार्क, H ब्लाक,शास्त्री नगर में 60 पार ‘युवाओं’ की एक टोली है जिन्होंने क्लब-60 नाम से एक संस्था बना रखी है, जहां 60 से 75 वर्ष के 15 लोग बीते 4-5 साल से लगातार समाजहित के अनूठे काम कर रहे हैं। साल 2015 में इस क्लब की स्थापना भारतीय स्टेट बैंक से रिटायर्ड प्रबंधक महेश रस्तोगी और हरि विश्नोईजी ने की थी ताकि वो अपने खाली समय का इस्तेमाल समाजहित और रचनात्मक कार्यों में कर सकें। नेक मकसद को लेकर शुरू किया क्लब 60 समाज में जागरुकता के लिए काम करता है। इस क्लब में15 लोग हैं और हर मेंबर ने 10 लोगों को जोड़ रखा है। क्लब-60 के जोशीले सदस्य पिछले पांच सालों से शहर की आबोहवा को ‘शुद्ध’ करने के साथ ही जल संरक्षण और स्वच्छता अभियान में पूरी शिद्दत के साथ जुटे हुए हैं। इन सब बुजुर्ग साथियों ने मिलकर तब्दीली का बीड़ा उठाया और वो कर दिखाया जो देखते ही देखते बहुतों के लिए मिसाल बन गया।क्लब-60 के सदस्य ऐसे लोग हैं जिन्होंने रिटायरमेंट को जिंदगी का ठहराव नहीं माना, बल्कि एक नई जिंदगी का आगाज किया। बैंक मैनेजर, इंजीनियर और पब्लिसिटी ऑफिसर जैसे अहम पदों से रिटायर होने के बाद ये लोग पर्यावरण और समाजसेवा में लगे हुए हैं। तो कुछ ऐसे हैं जिन्होंने जरूरतमंद बच्चों की पढ़ाई का बीड़ा उठा रखा है। ये वो सब करना चाहते हैं जो ये नौकरी की बंदिशों और वक्त की कमी के कारण नहीं कर पाए।

सर्दियों की कड़कड़ाती सुबह हो या मानसून की भीगती शाम, मौसम का यह बदलाव भी 60 से अधिक बसंत देख चुके इन सदस्यों के हौसलों को कम नहीं कर पाता। जब मौसम इनके लिए अपनी चाल नहीं बदलता, तो फिर भला रिटायरमेंट के नाम पर ये कैसे अपने जीने का अंदाज बदल डालें? नौकरी को अलविदा कह चुके इन्हीं 60+ की रोमांच से भरी जिंदगी का नाम है क्लब-60।


क्लब, सोशल मीडिया पर भी लोगों को जलसंरक्षण जैसे जरूरी मुद्दों को लेकर अवेयर करता है। क्लब के सदस्यों ने सबसे पहले कालोनी के लोगों को जल संरक्षण की जानकारी दी और इसके लिए उन्हें मोटीवेट किया और फिर आस-पड़ोस में अभियान शुरू किया। जो काम नगर निगम न कर सका वह इन्होंने कर दिखाया। क्लब-60 के सदस्यों ने अपने पेंशन के पैसौं से चंदा करके टैगोर पार्क और श्रीकृष्ण पार्क में रेन वॉटर हार्वेस्टिंग यूनिट लगाया है। संस्था ने पौधों को पानी देने के लिए ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया है, जिससे पानी बर्बाद न हो। इसके अलावा संस्था पौधरोपण, लावारिस पेड़ों की देखभाल, पक्षी आवास, जैविक फर्टिलाइजर बनाने, नि:शुल्क योग कक्षा आयोजन जैसे काम भी करती है।क्लब द्वारा किए गए काम:

  • हरे व गीले कचरे को उसके उदगम पर ही कम्पोस्टिंग करके उसका निपटारा कर दिया।
  • कचरा प्रबंधन सिखाने के लिए स्थाई प्रदर्शनी लगा रखी है।
  • बिना गढ्ढा,बिना केंचुए सिर्फ 20 रु के वेस्ट डिकम्पोजर से पार्क के गार्डन वेस्ट से बना रहे हैं कम्पोस्ट।
  • कूड़ा उठान, लदान व निपटान की समस्या हल कर दी।
  • नगर निगम ने अपने पार्कों में भी लागू की यही सस्ती,सरल व सफल तकनीक। बदले में नगर निगम ने इन्हें 3 लाख रु मूल्य के 200 होम कम्पोस्टर मुफ्त दिए। उनसे बन रही है घरों में किचन के कचरे से कम्पोस्ट। नतीजतन जय हिन्द सोसायटी बनी उत्तर प्रदेश की पहली कम्पोस्टिकृत सोसायटी।
  • वैदिक खाद और वैदिक मंत्रों से उगाए काजू, इलायची, चंदन व रुद्राक्ष के दुर्लभ पेड़ पौधे।
  • पेड़ पौधों पर दिखाया संगीत का प्रभाव। इसके लिए पार्क में लगा रखे हैं 12 स्पीकर्स और म्यूजिक सिस्टम।
  • स्वच्छता के प्रयासों से इनका वार्ड 26, स्वच्छ वार्ड प्रतियोगिता में जिले में अव्वल रहा।
  • व्यक्तिगत और सामुदायिक स्तर पर 13 विभिन्न तरीके अपना कर बचा लिया लाखो लीटर पानी।
  • बिना सरकारी सहायता के लगाए 4 रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम, स्प्रिंकलर,ड्रिप इरीगेशन,16 नालियां,वाटर स्टोरेज टैंक।
  • उठा दिया इलाके का भूजल स्तर।
  • पालीथिन से मुक्ति के लिए अपनी पेंशन से फ्री बांट रहे कपड़े के थैले, ताकि लोगों को आदत पड़े।
  •  पक्षियों हेतु लगवाए 100 घरौंदे व की दाने पानी की नियमित व्यवस्था।
  • सुबह शाम रोज करते हास्य बैठक।
  • हर रोज सुबह लगाते हैं निःशुल्क योग कक्षा।
  • अब क्लब ओपन जिम खोलने की तैयारी में है साथ ही औषधीय पौधों की खेती और सोलर लाइट की स्थापना।
  • .शिक्षा,स्वास्थ व आदर्श नागरिकता पर कर रहे हैं जागरूकता शिविरों का नियमित आयोजन।
  • साबित करके दिखा दिया कि वरिष्ठ नागरिक अपने आसपास करें यदि सुधार कार्य व रहें व्यस्त तो रहेंगे स्वस्थ न होगा अल्जाइमर व डिमेंशिया।
  • रॉक गार्डन की तर्ज पर पुरानी बेकार चीजों को दे रहे कलात्मक स्वरूप।

आज क्लब-60 एक आंदोलन का रूप अख्तियार कर चुका है। क्लब के सदस्यों ने सबसे पहले अपनी सोसाइटी से स्वच्छता और वेस्ट डीकम्पोज करके उससे कम्पोस्ट बनाने का काम शुरू किया। इसके बाद उन्होंने सोसाइटी में जल सरंक्षण को बढ़ावा देने के लिए ‘वर्षा जल संचयन उपक्रम (रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम) बनवाया। पानी बचाने के साथ ही प्लास्टिक के प्रयोग को रोकने के लिए मुफ्त में कपड़े और जूट के बैग वितरित किए, ताकि लोगो की आदत बदल सके।Club-60 द्वारा की गई टैगोर पार्क की सफाई और सजावट

जागरुकता का जुनून इन्हें बनाता है जवान

क्लब-60 के सदस्य हरि विश्नोईजी बताते हैं कि रिटायरमेंट के बाद हमारे पास समय की कमी नहीं थी, लेकिन हम इस समय का उपयोग सामाजिक कार्यों में करना चाहते थे। हमारे अभिन्न मित्र महेश रस्तोगी ने एक फिल्म क्लब 60 की तर्ज पर एक समूह बनाया, ताकि 60 के पार या रिटायरमेंट के बाद लोग अपने समय और अनुभव का इस्तेमाल सही ढंग से कर सके। कुछ विचार-विमर्श के बाद हमने हमारी सोसाइटी (जय हिन्द सोसाइटी) के रिटायर्ड लोगो के साथ मिलकर क्लब-60 की शुरुआत की. इसका मुख्य उद्देश्य उम्र के इस पड़ाव में स्वस्थ रहना और अपने समय और अनुभव के इस्तेमाल से समाज में बेहतरी के लिए काम करना है।

बड़ी-बड़ी पोस्ट पर काम करने के बावजूद क्लब-60 के सदस्यों को श्रमदान और स्वच्छता अभियान में भागीदारी में कोई समस्या नहीं होती है। इनके सामाजिक कार्यों की चर्चा मेरठ ही नहीं बल्कि 30 जून 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने प्रोग्राम ‘मन की बात’ में भी की और समाज को नई राह दिखाने के लिए क्लब-60 को धन्यवाद दिया।

क्लब-60 के संस्थापक महेश रस्तोगी ने सभी सदस्यों को अलग-अलग जिम्मेदारी दे रखी है। महेश रस्तोगी सुबह सभी सदस्यों को योगा करवाते हैं और स्वस्थ जीवन शैली का पालन करवाते हैं वहीं क्लब के एक सदस्य हरि विश्नोईजी ने शिक्षासेतु मिशन की बड़ी जिम्मेदारी संभाल रखी है। शिक्षासेतु के जरिए महज 1 साल में 150 वंचित,जरूरतमंद और गरीब बच्चों को स्कूल फीस,ड्रेस, बुक्स और फ्री कोचिंग की सहायता दी गई है। युवाओं और अनाथ बच्चों की पढ़ाई के साथ ही क्लब ने गरीब कन्याओं की शादी की जिम्मेदारी भी उठा रखी है। इसके अलावा नशामुक्त के खिलाफ अभियान भी समय-समय पर चलाया जाता है। क्लब के ही एक सदस्य ने ‘जीवनसाथी‘ व्हाट्सएप ग्रुप के जरिए रिश्ते मिलान की निशुल्क सेवा प्रदान करते है।  उम्र के ऊंचे पायदान पर खड़े क्लब-60 के सदस्यों ने अपने हौसलों के बूते आज की जनरेशन के सामने एक मिसाल तो कायम की ही है साथ ही संदेश भी दिया है कि काम से रिटायर होने का मतलब जिंदगी के रिटायर होने से बिल्कुल भी नहीं है। सही मायने में ये तो जिंदगी की एक नई शुरूआत है, तमाम जिम्मेदारियों से मुक्त होने के बाद। अपने इसे अनूठे अंदाज, जिंदादिली और सामाजिक पहल के लिए क्लब-60 के सदस्यों को कई सम्मानों से नवाजा जा चुका है। एनवायरमेंट क्लब की तरफ से बेस्ट पर्यावरण अवार्ड और UN के अंतरराष्ट्रीय NGO संगठन से कचरा प्रबंधन और जल संरक्षण में “कर्मवीर ग्लोबल अवार्ड” मिला है।इतना ही नहीं क्लब-60,मेरठ से प्रेरित होकर मध्यप्रदेश के नौगांव और नोएडा के वरिष्ठ नागरिकों ने भी क्लब-60 बनाकर समाजसेवा की शुरूआत की है।

हरि विश्नोईजी कहते हैं, मुश्किल नहीं है कुछ भी अगर ठान लीजिए…कुछ अच्छा करके बदलाव लाने के लिए किसी लंबी चौड़ी योजना की नहीं,अपने आसपास से छोटी से शुरुआत करके उन्हें दूसरों तक फैलाने की जरूरत होती है ताकि एक की सफलता दूसरों की प्रेरणा बन सके।

जिंदगी हर हादसे के बावजूद चलती है और उम्र के किसी भी पड़ाव पर चलनी ही चाहिए। अगर उसे गुजारने लगो तो वो बोझ बन जाती है, आप बूढ़े हो जाएं तो गिवअप कर दें, ये फलसफा ठीक नहीं है। क्‍लब 60 की कहानी भी कुछ यही मैसेज देती है। 

जिंदादिली किसे कहते हैं ये कोई क्लब-60 के ‘युवा’ सदस्यों से सीखे, जो समाज के लिए एक बेहतरीन उदाहरण है और हर रोज एक नई इबारत लिख रहे हैं। Pozitive India क्लब-60 की इस जिंदा दिली को तहेदिल से सलाम करता है।


 

 

Tags:

You Might also Like

1 Comments

  1. KAMLESH September 29, 2019

    club 60 k jajbe ko salam

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *