LOADING

Type to search

भारत में रहता है दुनिया का सबसे बड़ा परिवार

mayankshukla 2 years ago
Share

पारिवारिक रिश्तों को अहमियत देने वाले भारत में भले ही वक्त की जरूरत के मुताबिक न्यूक्लियर फेमिली यानि एकल परिवारों की ओर लोगों का रुझान बहुत तेजी से बढ़ा है, लेकिन परिवार को पूंजी समझने वाले ऐसे कुछ लोग आज भी हैं, जिनकी कई पीढ़ी एक ही छत के नीचे साथ-साथ गुजर-बसर कर रही है। हम आज आपको दुनिया के सबसे बड़े परिवार से मिलाने जा रहे हैं जो कहीं और नहींं बल्कि हमारे हिंदुस्तान में ही रहता है।

मिलिए  50 बीवियों, 109 बच्चों,14 बहुएं, 33 पोते-पोतियों वाले महान शख्स से

विभिन्नताओं से भरे इस विचित्र देश में एक से बढ़कर एक किस्से भरे पड़े हैं। लेकिन ये कहानी नहीं बल्कि सच्चाई है मिजोरम की राजधानी आइजॉल से 90 किलोमीटर दूर बसे बख्तवांग गांव की, जो एक ही व्यक्ति की 50 बीवियों और 100 से अधिक बच्चों से आबाद है। शांति और सुकून से भरपूर यह गांव एक ही परिवार के दायरे में सिमटा हुआ है। लगभग 190 सदस्यों वाले इस परिवार के मुखिया 73 साल के जिओना चाना (ziona) हैं।

इतने बड़े परिवार को प्रेम के धागे में गूथने वाले जिओना चाना पेशे से कारपेंटर हैं। उन्होंने 17 साल की उम्र में जाथिआंगी से पहली शादी की थी। उन्होंने एक साल में 10 शादियां तक की हैं और आज भी शादियां करने की इच्छा रखते हैं। दरअसल जिओना ऐसे संप्रदाय से ताल्लुक रखते हैं जो अपने सदस्यों को असीमित शादी की अनुमति देता है। इसलिए इनकी इतनी सारी पत्नियां हैं। इनके परिवार का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी शामिल है। 

50 पत्नियों के पति जियोना अपने इस भरे पूरे परिवार को भगवान के वरदान से कम नहीं मानते हैं और दुनिया का सबसे बड़ा परिवार का मुखिया होने के नाते वो खुद को किस्मत का धनी भी मानते हैं। घर में इतने सदस्य होने के बावजूद भी परिवार का माहौल बहुत खुशनुमा है। सभी सदस्य एक ही छत के नीचे आपसी प्यार और सम्मान के साथ रहता है।

चाना की 50 पत्नियों में से 22 की उम्र 40 से कम है। उन्हें अपने पति के साथ बिताने के लिए एक सप्ताह मिलता है । उसकी 26 बेटियां अपने परिवारों के साथ अलग रहती हैं। अपने सभी बच्चों और पोतों के नाम आज भी चाना खुद रखते हैं और उन्हें इन सबके नाम भी याद रहते हैं।

100 कमरों के इस घर में रहता है दुनिया का सबसे बड़ा परिवार

जिओना चाना का परिवार इसी चार मंजिला हवेली में रहता है, जो दूर से देखने पर बोर्डिंग हाउस या होटल जैसी दिखती है। 100 कमरे वाले इसे विशालकाय घर में उनका पूरा परिवार हंसी खुशी एक साथ रहता है। चाना ने अपने घर का नाम छौन थर रन यानी न्यू जेनरेशन होम रखा है।

 एक पूरी बारात जितना बनता है खाना

ठीक ठाक आम परिवार जितना राशन दो महीनों में खर्च करता है उतना राशन इस विशालकाय परिवार में एक दिन में ही लग जाता है। यहां एक दिन के लिए 130 किलो चावल, 40 मुर्गे, 25-30 किलो दाल, 50 अंडे और 60 किलो आलू समेत कई दूसरी सब्जियों की ज़रूरत होती है। इसके अलावा इस परिवार में लगभग 20 किलो फल की भी हर रोज़ खपत होती है। 

परिवार के सभी लोगों के लिए एक ही किचन में खाना पकता है। डायनिंग हाल में 50 टेबलों पर खाना परोसा जाता है।

परिवार में सेना सा अनुशासन

चाना के परिवार में सेना जैसा अनुशासन चलता है। चाना की पहली पत्नी जाथिआंगी की घर में सत्ता चलती है। वही सबके दैनिक काम जैसे सफाई, भोजन बनाना,कपड़े धोना आदि बांटती है। 

चाना की पत्नियां खाना पकाने का काम करती हैं और बेटियां घर की सफाई से लेकर कपड़े धोने का काम करती हैं। परिवार के पुरुष पशुधन पालन, लकड़ी का फर्नीचर, कृषि, एल्यूमीनियम के बर्तन बनाने और कई छोटे कुटीर उद्योगों में ध्यान देते हैं।

इलाके की सियासत में भी चाना परिवार का खास दबदबा है। एक साथ एक ही परिवार में इतने सारे वोट होने की वजह से तमाम नेता और इलाके की राजनीतिक पार्टियां जिओना चाना को अच्छा खासा महत्व देती हैं, क्योंकि स्थानीय चुनाव में इस परिवार का झुकाव जिस पार्टी की तरफ होता है, तो समझिए उसकी जीत की संभावना ज्यादा रहती है।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *