LOADING

Type to search

शून्य से शिखर पर पहुंचे कई स्टार्टअप्स

mayank_admin 3 years ago
Share

इंदौर। 2 साल पहले 35 युवा एक विचार, लैपटॉप और सपने लेकर क्रिस्टल आईटी पार्क पहुंचे और इनक्युबेशन सेंटर में किराए की कुर्सी, इंटरनेट और ट्रेनिंग की मदद से स्टार्टअप शुरू किए जो अब करोड़ों की कंपनी में तब्दील हो गए हैं. बेरोजगार युवा से कंपनी के एमडी और डायरेक्टर बन चुके उद्यमियों की पहली बैच को एकेवीएन ने औपचारिक विदाई दी. मप्र में यह पहला और अकेला इनक्युबेशन सेंटर है.

आईटी पार्क स्थित इनक्युबेशन सेंटर ‘सृजन’ में एकेवीएन एमडी कुमार पुरुषोत्तम ने विदाई ले रहे पांच स्टार्टअप के प्रतिनिधियों को सम्मानित किया. सृजन में शुरू हुए इन स्टार्टअप का टर्नओवर करोड़ों में है. इनमें से ज्यादातर को प्रसिद्ध कंपनियों ने अधिगृहित कर लिया है. ये सफल स्टार्टअप अब इनक्युबेशन सेंटर छोड़कर देश-विदेश में अपना ऑफिस शुरू करने जा रहे हैं. सेंटर में काम कर रहे अन्य स्टार्टअप के प्रतिनिधि भी मौजूद थे.मप्र स्टेट इलेक्ट्रॉनिक डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन के जीएम द्वारकेश सर्राफ ने उद्यमियों से कहा कि उनका विभाग स्टार्टअप को कैपिटल से लेकर लोन के ब्याज तक पर 75 तक की सब्सिडी दे रहा है. वे रजिस्ट्रेशन करवाएं और फायदा लें.

सफलता की कहानी

इनक्युबेशन से कंपनी शुरू कर विदाई लेने वालों में रणनीति नामक कंपनी के शिरीष शुक्ला, निशहाइप के राजेश भाटिया, निरामय शुरू करने वाले साबिर खान, पूजा माहेश्वरी, राजसिंह सिसौदिया और रॉबिन शामिल हैं. रणनीति पहली ऐसी कंपनी बनी है जो पॉलिटिकल कैंपेनिंग का काम करती है. 80 चुनावों के दौरान काम कर चुकी कंपनी ने 70 चुनाव जितवाने की उपलब्धि हासिल की है. राजेश भाटिया के स्टार्टअप में अमेरिकी कंपनी में अमेरिका के अनबाउंस ग्रुप ने भागीदारी की है.

कंपनी अहमदाबाद के बाद अमेरिका में भी ऑफिस शुरू कर चुकी है. निरामय को बहुराष्ट्रीय कंपनी प्रेक्टो ने अधिगृहित कर करोड़ों का निवेश किया है. पूजा माहेश्वरी आईआईटी पासआउट छात्रा के रूप में आईं और अब कंपनी बनाकर नए आईटी पार्क में अपना दफ्तर शुरू करने जा रही है. रॉबिन ने कंपनी स्थापित कर पलासिया में ऑफिस भी शुरू कर दिया है. सबसे युवा उद्यमी बने रॉबिन को अब ग्रेजुएशन की डिग्री मिलने का इंतजार है.

100 सीटों वाला नया सेंटर बनेगा

एकेवीएन एमडी ने घोषणा की कि पहली बैच निकलने के बाद मौजूदा इनक्युबेशन सेंटर में 10 से 12 स्टार्टअप को और जगह दी जाएगी. इसके साथ ही नया आईटी पार्क जून तक तैयार हो जाएगा. इस आईटी पार्क में 100 सीटों वाला एक और इनक्युबेशन सेंटर बनेगा. मौजूदा सेंटर में सिर्फ आईटी आधारित स्टार्टअप को ही जगह दी गई है, लेकिन नए सेंटर में हर तरह के स्टार्टअप को जगह और सुविधाएं दी जाएंगी.

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *